कौरव कौन, कौन पाण्डव – अटल बिहारी बाजपेयी

कौरव कौन कौन पांडव, टेढ़ा सवाल है| दोनों ओर शकुनि का फैला कूटजाल है| धर्मराज ने छोड़ी नहीं जुए की लत है| हर पंचायत में पांचाली अपमानित है| बिना कृष्ण के आज महाभारत होना है, कोई राजा बने, रंक को तो रोना है|

हरी हरी दूब पर – अटल बिहारी बाजपेयी

हरी हरी दूब पर ओस की बूंदे अभी थी, अभी नहीं हैं| ऐसी खुशियाँ जो हमेशा हमारा साथ दें कभी नहीं थी, कहीं नहीं हैं| क्काँयर की कोख से फूटा बाल सूर्य, जब पूरब की गोद में पाँव फैलाने लगा, तो मेरी बगीची का पत्ता-पत्ता जगमगाने लगा, मैं उगते सूर्य को नमस्कार करूँ या उसके … Read more हरी हरी दूब पर – अटल बिहारी बाजपेयी

कदम मिला कर चलना होगा – अटल बिहारी बाजपेयी

बाधाएँ आती हैं आएँघिरें प्रलय की घोर घटाएँ,पावों के नीचे अंगारे,सिर पर बरसें यदि ज्वालाएँ,निज हाथों में हँसते-हँसते,आग लगाकर जलना होगा।क़दम मिलाकर चलना होगा। हास्य-रूदन में, तूफ़ानों में,अगर असंख्यक बलिदानों में,उद्यानों में, वीरानों में,अपमानों में, सम्मानों में,उन्नत मस्तक, उभरा सीना,पीड़ाओं में पलना होगा।क़दम मिलाकर चलना होगा। उजियारे में, अंधकार में,कल कहार में, बीच धार में,घोर … Read more कदम मिला कर चलना होगा – अटल बिहारी बाजपेयी

65+ Shayari on Deedar topic

deedar ki lalak deedar shayari

Ishq me mahaboob ke Deedar ki chahat ko eak shayar se behtar kaun bata sakta hai ? Pesh hai Deedar par kuch chuninda shayari Agar pasand aae to whatsapp aur facebook par share kar sakte hain. इश्क में महबूब के दीदार की चाहत को एक शायर से बेहतर कौन बता सकता है ? पेश है … Read more 65+ Shayari on Deedar topic

Ishq Shayari

Ishq shayari image

Koi Samajhe To Eak Baat Kahoon, Ishq Taufeeq Hai Gunah Nahi कोई समझे तो एक बात कहूँ ,इश्क तौफीक है गुनाह नहीं । Aaj To Beshabab Udas Hai Dil, Ishq Hota To Koi Baat Bhi Thi. आज तो बेसबब उदास है दिल, इश्क होता तो कोई बात भी थी । Ye Mohabbat Ki Kahani Nahi … Read more Ishq Shayari

Nigahen shayari

nigah shayari in urdu

Best Collection of shayari on nigahen topic in Hindi and Roman Script. Share with your friends and family. Har rah par tumhe talash karti rahi nigahen, Kash yadon se nikal kar tum rubaru ho jate.   हर राह पर तुम्हें तलाश करती रहीं निगाहें, काश यादों से निकल कर तुम रुबरु हो जाते । Khubsurati … Read more Nigahen shayari