200+ गुलजार की शायरियाँ | Gulzar Shayari in Hindi Image | download PDF

गुलजार साहब की शायरी के दिवाने पूरी दुनिया में हैं। उनकी शायरी मंत्रमुग्ध कर देती है। इस पोस्ट में हमने उनकी कुछ चुनिंदा शायरियों को लिखा है। उम्मीद है आपको यह पोस्ट Gulzar Shayari in Hindi Image पसंद आएगी। कुछ शायरियों के चित्र भी हमने बनाए हैं, अगर पसंद आए तो उन्हें शेयर जरुर कीजिये।

गुलज़ार साहब जिनका वास्तविक नाम सम्पूर्ण सिंह कालरा है, एक भारतीय गीतकार, कवि, पटकथा लेखक, फिल्म निर्देशक और नाटककार हैं। वह अपनी शायरी के लिए पूरी दुनिया में प्रसिद्ध हैं।

गुलज़ार को हिंदी सिनेमा में योगदान के लिए कई प्रसिद्ध पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है। उन्हें 2004 में भारत के सर्वोच्च सम्मान पद्म भूषण से भी सम्मानित किया गया है।

इसके अलावा, उन्हें 2009 में सर्वश्रेष्ठ गीत के लिए डैनी बॉयल द्वारा निर्देशित फिल्म स्लमडॉग मिलियनेयर में जय हो गीत के लिए ऑस्कर पुरस्कार मिला। इसी गाने के लिए उन्हें ग्रैमी अवार्ड से भी सम्माित किया गया। उन्हे वर्ष 2013 में दादा साहब फाल्के अवार्ड से भी नवाजा गया है।

Gulzar Shayari in Hindi with Images

चाँद होता न आसमाँ पे अगर

हम किसे आप सा हसीं कहते

Chand Hot Na Asaman Pe Agar

Hum Kise Aap Sa Haseen Kahate

वक़्त रहता नहीं कहीं टिक कर

आदत इस की भी आदमी सी है

Waqt Rahata Nahin Kahin Tik Kar

Aadat Iski Bhi Aadami Si Hai

तुम्हारे ख़्वाब से हर शब लिपट के सोते हैं

सज़ाएँ भेज दो हम ने ख़ताएँ भेजी हैं

Tumhar Khwab Se Har Shab Lipat Ke Sote Hain

Sajaen Bhej Do Hum Ne Khatae Bheji Hain

waqt shayari gulzar hindi image

आइना देख कर तसल्ली हुई

हम को इस घर में जानता है कोई

Aaina Dekh Kar Tasalli Hui

Humko Is Ghar Mein Janta Hai Koi

दिल अगर है तो दर्द भी होगा

इस का कोई नहीं है हल शायद

Dil Agar Hai To Dard Bhi  Hoga

Isaka Koi Nahi Hai Hal shayad

खुली किताब के सफ़्हे उलटते रहते हैं

हवा चले न चले दिन पलटते रहते हैं

Khuli Kitab Ke Safhe Ulatate Rahate Hain

Hawa Chale Na Chale Dil Palatate Rahate Hain

दिल में कुछ यूँ सँभालता हूँ ग़म

जैसे ज़ेवर सँभालता है कोई

Dil Mein Kuchh Yun Samhalta Hu Gam

Jaise Jewar Sambhalata Hai Koi

यूँ भी इक बार तो होता कि समुंदर बहता

कोई एहसास तो दरिया की अना का होता

Yun Bhi Ek Baar Hota Ki Samundar Bahata

Koi Ehsas To Dariya Ki Ana Ka Hota

रात को दे दो चाँदनी की रिदा 1

दिन की चादर अभी उतारी है
                                                                                                           1.ओढ़ने की चादर

Raat Ko De Do Chandani Ki Rida

Din Ki Chadar Abhi Utari Hai

शाम से आँख में नमी सी है

आज फिर आप की कमी सी है

Sham Se Aankh Mein Nami Si hai

Aaj Fir Aap Ki Kami Si Hai

zindagi par jor nahi gulzar shayari in hindi image

ज़िंदगी यूँ हुई बसर तन्हा

क़ाफ़िला साथ और सफ़र तन्हा

Zindagi Yun Hui Basar Tanha

Kafila Sath Aur Safar Tanha

दर्द हल्का है साँस भारी है

जिए जाने की रस्म जारी है

Dard Halka Hai Sans Bhari Hai

Jiye Jaane Ki Rashm Jaari Hai

कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ़

किसी की आँख में हम को भी इंतिज़ार दिखे

Kabhi To Chauk Ke Dekhe Koi Hamari Taraf

Kisi Ki Aankh Me Humko Bhi Intizar Dikhe

इसे भी पढ़े

150+ सफर शायरी

पेड़ पर पक गया है फल शायद

फिर से पत्थर उछालता है कोई

Ped Par Pak Gaya Hai Fal Shayad

Fir Se Patthar Uchhalata Hai Koi

आप के बा’द हर घड़ी हम ने

आप के साथ ही गुज़ारी है

Aap Ke Baad Har Ghadi Humne

Aap Ke Sath Hi Guzari hai

लोग कंधे बदल बदल के चले

घाट पहुँचे बड़े वसीलों* से
                                                                                                                         वसीलों- उपायों

Log Kandhe Badal Badal Ke Chale

Ghat Pahunche Bade Wasilon Se

आदतन तुम ने कर दिए वादे

आदतन हम ने ए’तिबार किया

Aadatan Tumne Kar Diye Waade

Aadatan Ham Ne Atibar Kiya

ख़फ़ा थी शाख़ से शायद कि जब हवा गुज़री

ज़मीं पे गिरते हुए फूल बे-शुमार दिखे

Khafa Thi Shakh Se Shayad Ki Jab Hawa Guzari

Jamin Pe Girate Hue Phool Be-Shumar Dikhe

हम ने अक्सर तुम्हारी राहों में

रुक कर अपना ही इंतिज़ार किया

HumNe Aksar Tumhari Raahon Mein

Ruk Kar Apana Hi Intizar Kiya

tanha shayari gulzar best poetry

शाख़ पर कोई क़हक़हा तो खिले

कैसी चुप सी चमन पे तारी है

Shakh Par Koi Kahakaha To Khile

Kaise Chup Si Chaman Pe Tari Hai

कितनी लम्बी ख़ामोशी से गुज़रा हूँ

उन से कितना कुछ कहने की कोशिश की

Kitani Lambi Khamoshi Se Guzara Hun

Un Se Kitana Kuchh Kahane Ki Koshish Ki

कोई ख़ामोश ज़ख़्म लगती है

ज़िंदगी एक नज़्म लगती है

Koi Khamosh Zakhm Lagati Hai

Zindagi Ek Nazm Lagati Hai

मज़ार पे खोल कर गरेबाँ दुआएँ माँगें जो आए

अब के तो लौट कर फिर न जाए कोई

Mazar Pe Khol Kar Gareban DuaEn Mange Jo Aae

Ab Ke To Laut Kar Fir Na Jae Koi

ये रोटियाँ हैं ये सिक्के हैं और दाएरे हैं

ये एक दूजे को दिन भर पकड़ते रहते हैं

Ye Rotiyan Hain Ye Sikke Hain Aur Dayre Hain

Ye Ek Duje Ko Din Bhar Pakadate Rahate Hain

rotiya aur sikke gulzar sahab amazing shayari image

हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते

वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते

Haath Chute Bhi To Rishte Nahi Choda Karte

Waqt Ki Sakh Se Lamhe Nahi Toda Karte

जिस की आँखों में कटी थीं सदियाँ

उस ने सदियों की जुदाई दी है

Jis Ki Aankhon Me Kati Thi Sadiyan

Un Ne Sadiyon Ki Judai Di Hai

मैं चुप कराता हूँ हर शब उमडती बारिश को

मगर ये रोज़ गई बात छेड़ देती है

Main Chup Karata Hun Har Shab Umadati Barish Ko

Magar Ye Roz Gai Baat Ched Deti Hai

अपने साए से चौंक जाते हैं

उम्र गुज़री है इस क़दर तन्हा

Apane Saae Se Chauk Jaate Hain

Umra Guzari Hai Is Kadar Tanha

शहद जीने का मिला करता है थोड़ा थोड़ा

जाने वालों के लिए दिल नहीं थोड़ा करते

Shahad Jine Ka Mila Karta Hai Thoda Thoda

Jaane Walon Ke Liye Dil Nahi Thoda Karate

ख़ुशबू जैसे लोग मिले अफ़्साने में

एक पुराना ख़त खोला अनजाने में

Khushabu Jaise Log Mile Afsane Mein

Ek Purana Khat Khola Anjane Mein

aina dekh kar tasalli hui gulzar shayari in hindi image

कल का हर वाक़िआ तुम्हारा था

आज की दास्ताँ हमारी है

Kal Ka Har Waqiya Tumhara Tha

Aaj Ki Har Dastan Hamari Hai

गुलों को सुनना ज़रा तुम सदाएँ भेजी हैं

गुलों के हाथ बहुत सी दुआएँ भेजी हैं

Gulon Ko Sunana Zara Tum Sadaen Bheji Hain

Gulon Ke Haath Abhut Si Duaen Bheji Hain

रात भर बातें करते हैं तारे

रात काटे कोई किधर तन्हा

Raat Bhar Baten Karate Hain Taare

Raat Kaate Koi Kidhar Tanha

जब भी ये दिल उदास होता है

जाने कौन आस-पास होता है

Jab Bhi Ye Dil Udas Hota Hai

Jaane Kaun Aas Paas Hota Hai

उसी का ईमाँ बदल गया है

कभी जो मेरा ख़ुदा रहा था

Usi Ka Iman Badal Gaya Hai

Kabhi Jo Mera Khuda Tha

रवाँ 1 हैं फिर भी रुके हैं वहीं पे सदियों से

बड़े उदास लगे जब भी आबशार 2 दिखे
                                                                                                                1. बहता हुआ, प्रवाहमान
                                                                                                                2. झरना

Rawa Hain Fir Bhi Ruke hai Wahi Pe Sadiyon Se

Bade Udas Lage Hai Jab Bhi Aabshar Dikhe

आप ने औरों से कहा सब कुछ

हम से भी कुछ कभी कहीं कहते

Aap Ne Auron Se Kaha Sabkuch

Hum se Bhi Kuch Kabhi Kahin Kahate

koi khamosh zajhm lagati hai gulzar shayari

दिन गुज़रता नहीं है लोगों में

रात होती नहीं बसर तन्हा

Di Guzarata Nahi Hai Logon Mein

Raat Hoti Nahin Basar Tanha

तुम्हारे ख़्वाब से हर शब लिपट के सोते हैं

सज़ाएँ भेज दो हम ने ख़ताएँ भेजी हैं

Tumhar Khwab Se Har Shab Lipat Ke Sote Hain

Sajaen Bhej Do Hum Ne Khataen Bheji hain

दिल पर दस्तक देने कौन आ निकला है

किस की आहट सुनता हूँ वीराने में

Dil Par Dastak Dene Kaun Aa Nikala Hai

Kis Ki Aahat Sunta Hun Virane Mein

बे-सबब मुस्कुरा रहा है चाँद

कोई साज़िश छुपा रहा है चाँद

Be-Sabab Muskura Raha Hai Chaand

Koi Sazish Chhupa Raha Hai Chand

वो ख़त के पुर्ज़े उड़ा रहा था

हवाओं का रुख़ दिखा रहा था

Wo Khat Ke Purje Uda Raha Tha

Hawaon Ka Rukh Dikha Raha Tha

एक ही ख़्वाब ने सारी रात जगाया है

मैं ने हर करवट सोने की कोशिश की

Wo Khat Ke Purje Uda Raha Tha

Hawaon Ka Rukh Dikha Raha Tha

khata unki bhi nahi bewafa shayari

देर से गूँजते हैं सन्नाटे

जैसे हम को पुकारता है कोई

Der Se Gunjate Hain Sannate

Jaise HumKo Pukarata Hai Koi

सहमा सहमा डरा सा रहता है

जाने क्यूँ जी भरा सा रहता है

Der Se Gunjate Hain Sannate

Jaise HumKo Pukarata Hai Koi

सहमा सहमा डरा सा रहता है

जाने क्यूँ जी भरा सा रहता है

Sahama Sahama Dara Sa Rahara Hai

Jane Kyu Ji Bhara Sa Rahata Hai

सब्र हर बार इख़्तियार किया

हम से होता नहीं हज़ार किया

Sabra Har Baar Ikhtiyar Kiya

Hum Se Hota Nahi Hazar Kiya

एक पल देख लूँ तो उठता हूँ

जल गया घर ज़रा सा रहता है

Ek Pal Dekh Lu To Uthata Hun

Jal Gaya Ghar Zara Sa Rahta Hai

फिर वहीं लौट के जाना होगा

यार ने कैसी रिहाई दी है

Fir Wahin Laut Ke Jana Hoga

Yaar Ne Kaisi Rihai Di Hai

aap ke baad har ghadi gulzar shayari in hindi image

रात गुज़रते शायद थोड़ा वक़्त लगे

धूप उन्डेलो थोड़ी सी पैमाने में

Raat Guzarte Shayad Thoda Waqt Lage

Dhoop Undelo Thodi Si Paimane Mein

अपने माज़ी की जुस्तुजू में बहार

पीले पत्ते तलाश करती है

Apane Mazi Ki Zustazu Mein Bahar

Pile Patte Talash Karati Hai

आग में क्या क्या जला है शब भर

कितनी ख़ुश-रंग दिखाई दी है

Aag Mein Kya Kya Jala Hai Shab Bhar

Kitani Khush Rang Dikhai Di hai

आइए रास्ते अलग कर लें

ये ज़रूरत भी बाहमी* सी है
                                                                                                                          *पारस्परिक

Aiye Raste Alag Kar Le

Ye Zarurat Bhi Bahamin Si Hai

राख को भी कुरेद कर देखो

अभी जलता हो कोई पल शायद

Rakh Ko Bhi Kured Kar Dekho

Abhi Jalata Ho Koi Pal Shayad

kabhi to chauk ke dekhe koi hamari taraf best shayari

मेरे मोहल्ले का आसमाँ सूना हो गया है

बुलंदियों पे अब आ के पेचे लड़ाए कोई

Mere Mohalle Ka Asaman Suna Ho Gaya Hai

Bulandiyon Pe Ab Aa Ke Peche Ladae Koi

ख़ुशबू जैसे लोग मिले अफ़्साने में

एक पुराना ख़त खोला अनजाने में

Khushbu Jaise Log Mile Afsane Me

Ek Purana Khat Khola Anjane Me

ज़ख़्म कहते हैं दिल का गहना है

दर्द दिल का लिबास होता है

Zakhm Kahate Hain Dil Ka Gahana Hai

Dard Dil Ka Libas Hota Hai

ज़ख़्म कहते हैं दिल का गहना है

दर्द दिल का लिबास होता है

Zakhm Kahate Hain Dil Ka Gahana Hai

Dard Dil Ka Libas Hota Hai

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई

जैसे एहसाँ उतारता है कोई

Din Kuchh Aise Gujarata Hai Koi

Jaise Ehsan Utarata Hai Koi

फिर न माँगेंगे ज़िंदगी या-रब

ये गुनह हम ने एक बार किया

Fir Na Mangenge Zindagi Ya Rab

Ye Gunah Ham Ne Ek Bar Kiya

जाने किस का ज़िक्र है इस अफ़्साने में

दर्द मज़े लेता है जो दोहराने में

Jaane Kis Ka Zikra Hai Is Afasane Me

Dard Maze Leta Hai Jo Dohrane Me

चिंगारी इक अटक सी गई मेरे सीने में

थोड़ा सा आ के फूँक दो उड़ता नहीं धुआँ

Chingari Ek Atak Si Gai Mere Sine Me

Thada Sa Aa Ke Funk Do Udata Nahi Dhuaa

hath chute bhi to gulzar shayari in hindi image

वो उम्र कम कर रहा था मेरी

मैं साल अपने बढ़ा रहा था

Wo Umra Kam Kar Raha Tha Meri

Main Saal Apane Badha Raha Tha

आँखों के पोछने से लगा आग का पता

यूँ चेहरा फेर लेने से छुपता नहीं धुआँ

Ankhon Ke Pochhane Se Laga Aag Ka Pata

Yun Chehara Fer Lene Se Chupata Nahin Dhuan

एक उम्मीद बार बार आ कर

अपने टुकड़े तलाश करती है

Ek Ummid Bar Bar Aakar

Apane Tukade Talas Karati hai

हम इस मोड़ से उठ कर अगले मोड़ चले

उन को शायद उम्र लगेगी आने में

Har Is Mod Se Uth Kar Agale Mod Chale

Unko Shayad Umra Lagegi Aane Me

वो एक दिन एक अजनबी को

मेरी कहानी सुना रहा था

Wo Ek Din Ek Azanab Ko

Meri Kahani Suna Raha Tha

डस ही लेता है सब को इश्क़ कभी

साँप मौक़ा-शनास होता है

Das Hi Leta Hai Sab Ko Ishq Kabhi

Sanp Mauka-Shanas Hota Hai

chulhe nahi jalae gulzar sahab best shayari

रुके रुके से क़दम रुक के बार बार चले

क़रार दे के तेरे दर से बे-क़रार चले

Ruke Ruke Se Kadam Ruk Ke Bar Bar Chale

Karar De Ke Tere Dar Se BeKarar Chale

दिखाई देते हैं धुँद में जैसे साए कोई

मगर बुलाने से वक़्त लौटे न आए कोई

Dikhai Dete hain Dhundh Me Jaise Sae Koi

Magar Bulane Se Waq Laute Na Aae Koi

ज़िंदगी पर भी कोई ज़ोर नहीं

दिल ने हर चीज़ पराई दी है

Zindagi Par Bhi Koi Jor Nahi

Dil Ne Har Cheez Parai Di Hai

एक ही ख़्वाब ने सारी रात जगाया है

मैं ने हर करवट सोने की कोशिश की

Ek Hi Kwab Ne Sari Raat Jagaya Hai

Maine Har Karwat Sone Ki Koshish Ki

यादों की बौछारों से जब पलकें भीगने लगती हैं

सोंधी सोंधी लगती है तब माज़ी की रुस्वाई भी

Yaadon Ki Bauchhar Se Jab Palken Bhigane Lagati Hain

Sodhi Sodhi Lagati Hai Tab Mazi Ki Ruswai Bhi

ख़ामोशी का हासिल भी इक लम्बी सी ख़ामोशी थी

उन की बात सुनी भी हम ने अपनी बात सुनाई भी

Khamoshi Ka Hasil Bhi Ek Lambi Si Khamoshi thi

Un ki Baat Suni Bhi Hum Ne Apani Baat Sunai Bhi

गो बरसती नहीं सदा आँखें

अब्र  तो बारा मास होता है
                                                                                                                         1.गो- यद्यपि
                                                                                                                         2. अब्र- बादल

Go Barasati Nahi Sada Aankhen

Abra To Bara Mas Hota Hai

चंद उम्मीदें निचोड़ी थीं तो आहें टपकीं

दिल को पिघलाएँ तो हो सकता है साँसें निकलें

Chand Ummid Nichodi Thi To Aahen Tapaki

Dil Ko Pighalaen To Ho Sakata Hai Sansen Nikalen

नाम मेरा था और पता अपने घर का

उस ने मुझ को ख़त लिखने की कोशिश की

Naam Mera Tha Aur Pata Apane Ghar Ka

Us Ne Mujh Ko Khat Likhane Ki Koshish Ki

ये शुक्र है कि मेरे पास तेरा ग़म तो रहा

वगर्ना ज़िंदगी भर को रुला दिया होता

Ye Shukra Hai Ki Mere Pas Tera Gam To Raha

Wagarna Zindagi Bhar Ko Rula Diya Hota

एक सन्नाटा दबे-पाँव गया हो जैसे

दिल से इक ख़ौफ़ सा गुज़रा है बिछड़ जाने का

Ek Sannata Dabe-paon Gaya Ho Jaise

Dil Se Ek Khauf Sa Guzara Hai Bichad Jaane Ka

adatan tumne wayda shayari gulzar in hindi image

ये दिल भी दोस्त ज़मीं की तरह

हो जाता है डाँवा-डोल कभी

Ye Dil Bhi Dost Jamin Ki Tarah

Ho Jata Hai Dawan-Dol Kabhi

काँच के पार तेरे हाथ नज़र आते हैं

काश ख़ुशबू की तरह रंग हिना का होता

Kanch Ke Paar Tere Hath Nazar Aate Hain

Kash Khushabu Ki Tarah Rang Hina Ka Hota

कोई न कोई रहबर रस्ता काट गया

जब भी अपनी रह चलने की कोशिश की

Koi na Koi Rahbar Rasta Kaat Gaya

Jab Bhi Apani Raah Chalane Ki Koshish Ki

चूल्हे नहीं जलाए कि बस्ती ही जल गई

कुछ रोज़ हो गए हैं अब उठता नहीं धुआँ

Chulhe Nahin Jalae Ki Basti Hi Jal Gai

Kuchh Roz Ho Gae Hain Uthata Nahin Dhuaan

भरे हैं रात के रेज़े कुछ ऐसे आँखों में

उजाला हो तो हम आँखें झपकते रहते हैं

Bhare Hain Raat Ke Reze Kuchh Aise Aankhon Mein

Ujala Ho To Hum Aankhen Jhapakate Rahate Hain

भरे हैं रात के रेज़े कुछ ऐसे आँखों में

उजाला हो तो हम आँखें झपकते रहते हैं

Bhare Hain Raat Ke Reze Kuchh Aise Aankhon Mein

Ujala Ho To Hum Aankhen Jhapakate Rahate Hain

कल फिर चाँद का ख़ंजर घोंप के सीने में

रात ने मेरी जाँ लेने की कोशिश की

Kal Fir Chand Ka Khanjar Ghop Ke Sine Main

Raat Ne Meri Jaan Lene Ki Koshish Ki

आँखों से आँसुओं के मरासिम पुराने हैं

मेहमाँ ये घर में आएँ तो चुभता नहीं धुआँ

Aankon Se Aansuon Ke Marasim Purane Hain

Mehman Ye Ghar Mein Aae To Chubhta Nahi Dhuan.

उम्मीद करता हूँ आपको यह पोस्ट Gulzar Shayari in Hindi Image पसंद आया होगा। कुछ शायरियों के चित्र भी हमने बनाए हैं, अगर पसंद आए तो उन्हें शेयर जरुर कीजिये। अपने दोस्तों और सोशल मीडिया पर इसे शेयर करें।

Click to rate this post!
[Total: 4 Average: 5]

Leave a comment