दूध में दरार पड़ गई – अटल बिहारी बाजपेयी

ख़ून क्यों सफ़ेद हो गया?
भेद में अभेद खो गया।
बँट गये शहीद, गीत कट गए,
कलेजे में कटार दड़ गई।
दूध में दरार पड़ गई।

खेतों में बारूदी गंध,
टूट गये नानक के छंद
सतलुज सहम उठी, व्यथित सी बितस्ता है।
वसंत से बहार झड़ गई
दूध में दरार पड़ गई।

अपनी ही छाया से बैर,
गले लगने लगे हैं ग़ैर,
ख़ुदकुशी का रास्ता, तुम्हें वतन का वास्ता।
बात बनाएँ, बिगड़ गई।
दूध में दरार पड़ गई।

Click to rate this post!
[Total: 1 Average: 4]

Dudh Main Darar Pad Gai Kavita by Atal Bihari Bajpayee

doodh main darar pad gai kavita by atal bihari bajpayee
Click to rate this post!
[Total: 1 Average: 4]

Leave a comment