65+ Shayari on Deedar topic

65+ Shayari on Deedar topic

Ishq me mahaboob ke Deedar ki chahat ko eak shayar se behtar kaun bata sakta hai ? Pesh hai Deedar par kuch chuninda shayari

Agar pasand aae to whatsapp aur facebook par share kar sakte hain.

इश्क में महबूब के दीदार की चाहत को एक शायर से बेहतर कौन बता सकता है ? पेश है दीदार पर कुछ चुनिंदा शायरी

पसंद आए तो व्हाट्सअप और फेसबुक पर शेयर करें –

  • Dekhne ke liye saara aalam bhi kam,

Chahne ke liye ek chehara bahut.

देखने के लिए सारा आलम भी कम,

चाहने के लिए एक चेहरा बहुत ।


  • Janab ke ruḳh-e-raushan ki diid ho jaati

    To ham siyah-nasibon ki iid ho jaati.

    जनाब के रुख़-ए-रौशन की दीद हो जाती,

    तो हम सियाह-नसीबों की ईद हो जाती ।

     

deedar ki lalak deedar shayari
  • Bhanp hi lenge ishara sar-e-mahfil jo kiya,

    Tadne vaale qayamat ki nazar rakhte hain.

    भाँप ही लेंगे इशारा सर-ए-महफ़िल जो किया,

    ताड़ने वाले क़यामत की नज़र रखते हैं ।


  • Meri ankhen aur didar aap ka,

    Ya qayamat aa gai ya ḳhwab hai.

    मेरी आँखें और दीदार आप का,

    या क़यामत आ गई या ख़्वाब है ।


  •  

    Dekha nahin wo chand sa chehra kai din se,

    Tarik nazar aati hai duniya kai din se.

    देखा नहीं वो चाँद सा चेहरा कई दिन से,

    तारीक नज़र आती है दुनिया कई दिन से ।

     

apka deedar shayari
  • Ab wahi karne lage didar se aage ki baat,

    Jo kabhi kahte the bas didar hona chahiye.

    अब वही करने लगे दीदार से आगे की बात,

    जो कभी कहते थे बस दीदार होना चाहिए ।


  •  

    Ab aur der na kar hashr barpa karne mein,

    Meri nazar tere didar ko tarasti hai

    अब और देर न कर हश्र बरपा करने में,

    मेरी नज़र तेरे दीदार को तरसती है ।


  • Tum apne chand taare kahkashan chahe jise dena,

    Meri ankhon pe apni diid ki ik shaam likh dena.

    तुम अपने चाँद तारे कहकशाँ चाहे जिसे देना,

    मेरी आँखों पे अपनी दीद की इक शाम लिख देना ।


  •  

    Ashiq ko dekhte hain dupatte ko taan kar,

    Dete hain ham ko sharbat-e-didar chhan kar.

    आशिक़ को देखते हैं दुपट्टे को तान कर,

    देते हैं हम को शर्बत-ए-दीदार छान कर ।


  •  

    Suna hai hashr mein har aankh use be-parda dekhegi

    Mujhe Dar hai na tauhin-e-jamal-yaar ho jaae.

    सुना है हश्र में हर आँख उसे बे-पर्दा देखेगी,

    मुझे डर है न तौहीन-ए-जमाल-ए-यार हो जाए ।


  • Didar ki talab ke tariqon se be-ḳhabar,

    Didar ki talab hai to pahle nigah maang.

    दीदार की तलब के तरीक़ों से बे-ख़बर,

    दीदार की तलब है तो पहले निगाह माँग ।


  •  

    Kaisi ajiib shart hai didar ke liye,

    Abkhen jo band hon to wo jalwa dikhai de.

    कैसी अजीब शर्त है दीदार के लिए,

    आँखें जो बंद हों तो वो जल्वा दिखाई दे ।


  •  

    Zahir ki aankh se na tamasha kare koi,

    Ho dekhna to dida-e-dil va kare koi.

    ज़ाहिर की आँख से न तमाशा करे कोई,

    हो देखना तो दीदा-ए-दिल वा करे कोई ।

mahaboob ke deedar shayari
  • Phir kisi ke samne chashm-e-tamanna jhuk gai,

Shauq ki shoḳhi men rang-e-ehtaram aa hi gaya.

फिर किसी के सामने चश्म-ए-तमन्ना झुक गई,

शौक़ की शोख़ी में रंग-ए-एहतराम आ ही गया ।


  • Mujheko mahrumi-e-nazara qubul,

Aap jalwe na apne aam Karen.

मुझेको महरूमी-ए-नज़ारा क़ुबूल,

आप जल्वे न अपने आम करें ।


  • Tera didar ho hasrat bahut hai,

Chalo ki nind bhi aane lagi hai.

तेरा दीदार हो हसरत बहुत है,

चलो कि नींद भी आने लगी है ।


  • Mera ji to ankhon men aaya ye sunte,

Ki didar bhi ek din aam hoga.

मेरा जी तो आँखों में आया ये सुनते,

कि दीदार भी एक दिन आम होगा ।


  • Fareb-e-jalva kahan tak ba-ru-e-kar rahe,

Naqab uthao ki kuchh din zara bahar rahe.

फ़रेब-ए-जल्वा कहाँ तक ब-रू-ए-कार रहे,

नक़ाब उठाओ कि कुछ दिन ज़रा बहार रहे ।


  • Tera didar ho ankhen kisi bhi samt dekhen,

So har chehre men ab teri shabahat chahiye hai.

तेरा दीदार हो आँखें किसी भी सम्त देखें,

सो हर चेहरे में अब तेरी शबाहत चाहिए है ।


  • Afari tujh ko hasarat-e-didar,

Chasm-e-tar se zaban ka Kam liya.

आफ़रीं तुझ को हसरत-ए-दीदार,

चश्म-ए-तर से ज़बाँ का काम लिया ।


  • Ilahi kya khule dedar ki raah,

Udhar darwaje band ankhen idhar band.

इलाही क्या खुले दीदार की राह,

उधर दरवाज़े बंद आँखें इधर बंद ।


  • Kuchh nazar ata nahi us ke tasavvur ke siwa,

Hasarat-e-didar ne ankhon ko andha kar diya.

कुछ नज़र आता नहीं उस के तसव्वुर के सिवा,

हसरत-ए-दीदार ने आँखों को अंधा कर दिया ।


  • Kyun jal gaya na tab-e-rukh-e-yaar dekh kar,

Jalta hun apani takat-e-didar dekh kar.

क्यूँ जल गया न ताब-ए-रुख़-ए-यार देख कर,

जलता हूँ अपनी ताक़त-ए-दीदार देख कर ।


  • Aap idhar aae udhar deen aur imaan gae,

Iid ka chand nazar aaya to ramzan gae.

आप इधर आए उधर दीन और ईमान गए,

ईद का चाँद नज़र आया तो रमज़ान गए ।


  • Mariz-e-mohbbat hun, ek tera deidar kafi hai,

Har eak dawa se behatar, nigah-e-yaar kafi hai.

मरीज़-ए-मोहब्बत हूं, इक तेरा दीदार काफी है,

हर एक दवा से बेहतर, निगाहे-ए-यार काफी है ।


  • Jo aur kuch to teri deed ke siwa manzur,

To mujh pe khwahis-e-jannat haram ho jae.

जो और कुछ हो तेरी दीद के सिवा मंज़ूर,

तो मुझ पे ख़्वाहिश-ए-जन्नत हराम हो जाए ।


  • Kahate hain Eid hai aaj apani bhi eid hoti,

Humko agar mayassar jana ki deed hoti.

कहते हैं ईद है आज अपनी भी ईद होती,

हम को अगर मयस्सर जानाँ की दीद होती ।


  • Tu samne hai to fir kyu yakeen nahi ata.

Ye bar bar jo ankhon ko mal ke dekhate hain.

तू सामने है तो फिर क्यूँ यक़ीं नहीं आता,

ये बार बार जो आँखों को मल के देखते हैं ।


  • Dard ke milane se ei yaar bura kyu mana,

Us ko kuch aur siwa deed ke manjoor na tha.

‘दर्द’ के मिलने से ऐ यार बुरा क्यूँ माना,

उस को कुछ और सिवा दीद के मंज़ूर न था ।

tera deedar shayari
  • Hatao aaina ummidwar ham bhi hain,

Tumhare dekhane walon me yaar ham bhi hain.

हटाओ आइना उम्मीद-वार हम भी हैं,

तुम्हारे देखने वालों में यार हम भी हैं ।


  • Na wo surat dikhate hain, Na milte hain gale aakar,

Na ankhen shad hoti hain na dil masarur hota hai.

न वो सूरत दिखाते हैं न मिलते हैं गले आ कर,

न आँखें शाद होतीं हैं न दिल मसरूर होता है ।


  • Deedar ki talab ho to nazaren jamae rakhana.

Gunghat, parda, nakab jo bhil ho, sarakata jarur  hai.

दीदार की  तलब हो तो  नज़रें  जमाए रखना,

घुंघट, पर्दा, नकाब जो भी हो सरकता जरूर है ।


  • Sans ruk jae bhale hi tera intezar karte-karte,

Tere deedar ki arazu hargiz kam na hogi.

साँस रूक जाये भले ही तेरा इन्तज़ार करते-करते,

 तेरे दीदार की आरज़ू हरगिज कम ना होगी ।


  • Badshah the hamapan Mizaz-e-Masti ke,

Ishq ne tere deedar ka faker bana diya.

बादशाह थे हम अपनी  मिजाज-ए मस्ती के,

इश्क़ ने तेरे दीदार का फ़क़ीर बना दिया ।


  • Mujhako har ghadi tera deedar chahie,

Tumhara pyar chahiye mujhe jine ki liye.

मुझको हर घड़ी तेरा दीदार चाहिये,

तुम्हारा प्यार चाहिये मुझे जीने के लिये ।


  • Tere deedar ka nashi bhi ajeeb hai,

Bairan tu na dikhe to dil tadapata hai,

Aur tu dikhe to dil dhadakta hai.

तेरे दीदार का नशा भी अजीब है,

बैरण तू ना दिखे तो दिल तड़पता है,

और तू  दिखे तो दिल धड़कता है ।


  • Ankon ki saja tab tak hai jab tak deedar na ho,

Dil ki saja tab tak hai jab tak pyar na ho,

Ye zindagi bhi eak saja hai jab tak aap jaisa yaar na ho.

आखों की सजा तब तक है जब तक दीदार ना हो,

दिल की सजा तब तक है जब तक प्यार ना हो,

ये जिंदगी भी एक सजा है जब तक आप जैसा यार ना हो ।


  • Tere intezar me kab se udas baithe hain,

Tere deedar me ankhe bichae baithe hain.

Tu eak nazar hum ko dekh le bas,

Is aas me kab se bekarar baithe hain.

तेरे इंतजार में कब से उदास बैठे हैं,

तेरे दीदार में आँखे बिछाये बैठे हैं ।

तू एक नज़र हम को देख ले बस,

इस आस में कब से बेकरार बैठे हैं ।



  • Deedar Tumhare hasin chehare ka hum harpal karne lage hain,

Izhar-e-mohabbat karne se ab kitna darane lage hain.

दीदार तुम्हारे हसीं चेहरे का हम हरपल करने लगे है,

इजहार ए मुहब्बत करने से अब कितना डरने लगे हैं ।


  • Khali palkon me eak iksh tumhara hum bharne lage hain,

Tumhari masoom chahato ke waste jite ji marne lage hain.

खाली पलकों में इक अक्श तुम्हारा हम भरने लगे है,

तुम्हारी मासूम चाहतों के वास्ते जीते जी मरनें लगे हैं ।


  • Deedar mahboob ka jo nigahon ne kar liya,

Dhadakano ko sambhalna mushkil ho gaya.

दीदार महबूब का जो निगहों ने कर लिया,

धड़कनो को सम्भालना मुश्किल हो गया ।


  • Kitani bhi haldi chandan kesar laga ho,

Deedar-e-yaar ke bina nikhar ata hi nahi.

कितनी भी हल्दी चन्दन केसर लगा लो,

दीदार ए यार के बिना निखार आता ही नहीं ।


  • Tlab uthati hai bar-bar tere deedar ki,

Na jane dekhate dekhate kab tum lat ban gae.

तलब उठती है बार-बार तेरे दीदार की,

ना जाने देखते देखते कब तुम लत बन गए ।


  • Tere deedar ki talash me ate hain teri galiyon mein,

Warna awaragi ke liye pura shahar pada hai.

तेरे दीदार की तलाश में आते है तेरी गलियों में,

वरना आवारगी के लिए पूरा शहर पड़ा है ।


  • Taras gae aapke deedar ko,

Dil fir bhi apka intezar karta hai.

तरस गये आपके दीदार को,

दिल फिर भी आपका इंतज़ार करता है ।


  • Humse accha to apke ghar ka aina hai,

Jo roz apka deedar karta hai.

हमसे अच्छा तो आपके घर का आईना है,

जो हर रोज़ आपका दीदार करता है ।


  • Teri bewafai par itana hi kahunga hamsafar.

Main khud ko is kabil banaunga,

Ki teri ankhen mere deedar ko tarsegi.

तेरी बेवफाई पर इतना ही कहूँगा हमसफर,

मैं खुद को इस काबिल बनाऊंगा,

की तेरी आँखे मेरे दीदार को तरसेगी ।


  • Koi to jalwa khuda ke waste,

Deedar ke kabil dikhai de.

कोई तो जलवा खुदा के वास्ते,

दीदार के काबिल दिखाई दे ।


  • Sangdil to mil chuke hain hazaron,

Koi ahal-e-dil to dikhai de.

संगदिल तो  मिल चुके हैं हजारों,

कोई अहल-ए-दिल तो दिखाई दे ।


  • Teri yad se hi sahak jati hai duniya meri,

Na jane tere deedar pe kya aalam hoga.

तेरी याद से ही महक जाती है दुनिया मेरी,

ना जाने तेरे दीदार पे क्या आलम होगा ।


  • Wo inkar karte hain ikrar ke liye,

Nafrat karte hain pyar ke liye.

वो इंकार करते हैं इकरार के लिए,

नफरत करते हैं प्यार के लिए ।


  • Ulte chalet hain ye pyar karne wale,

Ankhen band karte hain deedar ke liye.

उल्टे चलते हैं ये प्यार करने वाले,

आँखें बंद करते हैं वो दीदार के लिए ।

  • Talab aisi ki basa le apani sanson me tujhe hum,

Aur kismet aisi ki deedar ke bhi mohataz hain hum.

तलब ऐसी कि बसा लें अपनी साँसो में तुझे हम,

और किस्मत ऐसी कि दीदार के भी मोहताज हैं हम ।


  • Dil bechain hai sanse tham si gai hain,

Din deedar tere shayari bhi jam si gai hai.

दिल बेचैन है साँसे थम सी गयी है ,

बिन दीदार तेरे शायरी भी जम सी गयी है ।


  • Sone laga hu tujhe khwab me dekhane ki hasrat le kar,

Dua karna koi jaga na de tere deedar se pahale.

सोने लगा हूँ तुझे ख्वाब में देखने कि हसरत ले कर,

दुआ करना कोई जगा ना दे तेरे दीदार से पहले ।


  • Dil ne aaj fir tere deedar ki khwahis rakhi hai,

Agar fursat mile to khwabon me aa jana.

दिल ने आज फिर तेरे दीदार की ख्वाहिश रखी है,

अगर फुरसत मिले तो ख्वाबों मे आ जाना ।


  • Kuch log to bas isliye apane bane hain abhi,

Ki kabhi meri bardadi ho to deedar kareeb ho.

कुछ लोग तो बस इसलिए  अपने बने हैं अभी,

कि कभी मेरी बर्बादियां हों तो दीदार ‘करीब’ से हो ।


  • Kuch nazar aata nahi us ke tasawwur ke siwa,

Hasarat-e-deedar ne ankhon ko andha kar diya.

कुछ नज़र आता नहीं उस के तसव्वुर के सिवा

हसरत-ए-दीदार ने आँखों को अंधा कर दिया ।


  • Soch Soch Kar Umr Kyun Kam Karun,

Wo Nahi Mila To Kyun Gam Karun,

Na Hua Na Sahi Deedar Unka,

Kis Liye Bhala Aankhein Nam Karun.


  • सोच सोच कर उम्र क्यों कम करूँ,

वो नहीं मिला तो क्यों ग़म करूँ,

न हुआ न सही दीदार उनका,

किस लिए भला आँखें नम करूँ ।


  • Aankhon Me Aankhein Daalkar Tumhara Deedar,

Ye Kashish Bayaan Karna Mere Bas Ki Baat Nahi.

आँखों में आंखे डाल कर तुम्हारा दीदार,

ये कशिश बयां करना मेरे बस की बात नहीं ।


  • Jaroori To Nahi Hai Ki Tujhe Aankhon Se Hi Dekhein,

Teri Yaad Ka Aana Bhi Tere Deedar Se Kam Nahi.

जरुरी तो नहीं है की तुझे आँखों से ही देखें,

तेरी याद का आना भी तेरे दीदार से कम नहीं ।


  • Chaman Mein Iss Kadar Tu Aam Kar De Apne Jalwon Ko,

Ke Aankhein Jis Taraf Uthein Tera Deedar Ho Jaaye.

चमन में इस कदर तू आम करदे अपने जलवों को,

कि आँखें जिस तरफ उठें तेरा दीदार हो जाये ।


  • Tere Deedar Pe Agar Mera Ikhtiyar Hota,

Yeh Roj Roj Hota Aur Baar Baar Hota.

तेरे दीदार पर अगर मेरा इख्तियार होता,

ये रोज-रोज होता और बार बार होता ।



  • Nazar chahati hai deedar karna, Dil chahata hai pyar karna,

Kya batae is dil ka alam, naseeb me likha hai intezar karna.

नज़र चाहती है दीदार करना, दिल चाहता है प्यार करना,

क्या बताएं इस दिलका आलम, नसीब मैं लिखा है इंतज़ार करना ।

Click to rate this post!
[Total: 2 Average: 4.5]

Leave a comment